indra-nooyi_1481788811.jpeg
indra-nooyi_1481788852.jpegindra-nooyi_1481789141.jpegindra-nooyi_1481789179.jpegindra-nooyi_1481789208.jpeg

नाइट शिफ्ट में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करती थी, अब देंगी ट्रंप को सलाह

Added by Top MLM Company

0 reviews

Contact Listing Owner

Contact the Listing Owner

To inquire about this listing, complete the form below to send a message to the listing owner.


Rate this post
top-5-australian-business-directories-free-listing

नाइट शिफ्ट में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करती थी, अब देंगी ट्रंप को सलाह,

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

भारतीय मूल की पेप्सीको की चेयरमैन इंदिरा नूयी को अमेरिका के भावी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने हाल ही में अपने एडवाइजरी काउंसिल में शामिल किया है। इसके साथ ही नूयी के व्यक्तित्व में एक और उपलब्धि जुड़ गई है। लेकिन क्या आप जानते हैं अमेरिका के साथ दुनिया में झंडे गाड़ रही भारतीय मूल की यह महिला कौन है? आइये हम आपको बताते हैं…

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

चेन्नई में जन्मी नूयी पेप्सीको की सीईओ और चेयरमैन हैं। पिछले 11 सालों से वह दुनिया की चौथी सबसे बड़ी कंपनी के सबसे वरिष्ठ पद पर नियुक्त हैं।

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

नूयी की शुरुआती शिक्षा भारत में ही हुई है। चेन्नई से स्नातक करने के बाद उन्होंने आईआईएम कलकत्ता से एमबीए किया। भारत में कुछ वक्त काम करने के बाद वह आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका चली गईं।

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

लेकिन अमेरिका में जिंदगी आसान नहीं थी। पढ़ाई के खर्च को चलाने के लिए वह रातभर रिसेप्शनिस्ट का काम करती थीं और सुबह उठ कर कॉलेज जाती थीं। येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से मास्टर्स की डिग्री लेने के लिए वह प्लेसमेंट में बैठीं तो रिजेक्ट कर दी गईं। वजह थी उनके कपड़े जो उन्होंने रातभर जाग कर कमाए पैसों से खरीदे थे।

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

अपने पहनावे की वजह से रिजेक्ट होना उन्हें काफी खला। आगे उन्होंने इसका ध्यान रखा और अगले ही इंटरव्यू में सलेक्ट हों गईं। अमेरिका में उन्होंने बॉस्टन कंसल्टेंसी ग्रुप के साथ अपने करियर की शुरुआत की। नूयी अपने सहकर्मियों से ज्यादा मेहनत करती थीं। उन्हें लगता था कि महिला होने के नाते उन्हें पुरुषों से अधिक मेहनत करनी होगी तभी वह आगे बढ़ पाएंगी। उनका अमेरिकी ना होना भी उन्हें और मेहनत करने के लिए प्रेरित करता था।

Pepsico chief Indira Nooyi in Trump's advisory council, know her success story

बॉस्टन से निकलने के बाद नूयी ने मोटोरोला ज्वाइन किया। मोटोरोला में वाईस-प्रेसिडेंट के पद पर कई सालों तक काम करने के बाद नूयी ने 1994 में पेप्सीको ज्वाइन किया। पेप्सीको में कई पदों पर काम करने के बाद 2006 में वह कंपनी की सीईओ और चेयरमैन बनाई गईं। नूयी पेप्सीको के सीईओ के पद पर पहुंचने वाली पहली महिला हैं। वह कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में भी शामिल हैं।

Add Your Review

Please login or register to add your review.

Skip to toolbar